Friday, August 8, 2014

वो उसके शहर आया था
 बस वीकेंड भर के लिए
सैटरडे मॉर्निग दोनों ने तय किया
कि मिलते हैं लंच पर

लंच के टाइम पर उसने
ऑफिस से उसको पिक किया
एक अच्छे चाइनीज़ रेस्टोरेंट में
फिर दोनों  ने लंच किया
वापसी में उसने
उसे ऑफिस में ड्राप कर दिया

शाम को वो देर से घर आई
कुक का खाना खाकर दोनों सो गए

संडे का दिन है कल
किसी को ऑफिस नहीं जाना है
एक दूसरे के साथ
बिताने को है पूरा  दिन

ये तो लक्ज़री ही है
आज के लाइफ की

रात को फिर वो चला जाएगा

हस्बैंड वाइफ हैं दोनों …
 

No comments:

ज़िन्दगी का दायरा कैसे फैलता चला जाता है एक सर्किल का लगातार बढ़ता हुआ जैसे सरकमफेरेंस हो ! और इंसान मानो उस इमेजिनरी लाइन के ऊपर खड़ा...