Friday, August 8, 2014

हफ़्तों शहर से
बाहर रहता है वो

शहर में होता भी है तो
देर से घर आता है

लंच के टाइम पे
२-४ कॉफी पी लेता है

बिज़ी रहता है बहुत

सुना है तरक़्क़ी हुई है
उसकी अपने ऑफिस में

सीनियर मैनेजर बन गया है

 

No comments:

ज़िन्दगी का दायरा कैसे फैलता चला जाता है एक सर्किल का लगातार बढ़ता हुआ जैसे सरकमफेरेंस हो ! और इंसान मानो उस इमेजिनरी लाइन के ऊपर खड़ा...