Sunday, September 7, 2014

बेचैन अकेली रात
हमसफ़र चाँद के
इंतज़ार में
तड़प रही थी

सुबह होने वाली थी 
और उसे डर था
आसमां के पार्क में
शिव-सैनिक जैसा
आएगा सूरज
और उन दोनों को
फिर से
जुदा कर देगा 

No comments:

ज़िन्दगी का दायरा कैसे फैलता चला जाता है एक सर्किल का लगातार बढ़ता हुआ जैसे सरकमफेरेंस हो ! और इंसान मानो उस इमेजिनरी लाइन के ऊपर खड़ा...