Monday, March 20, 2017

मेरे नाम के हिस्से में
             एक शाम सुहानी लिख देना
नाम मेरा कोई पूछे तो
             बस तेरी दीवानी लिख देना

याद मेरी जो आये तो
             अश्क़ों को हर्फ़ बना लेना
शब् की स्याह शफहों पर तुम
             दिल की कहानी लिख देना

याद है तुमको वो पल क्या
              जब तुम जाने वाले थे
आँखों से तूने जो पोछा था
              उसको न पानी लिख देना

बरस रहे थे हम तुम दोनों
              भींग रहे थे हम तुम दोनों
खामोशी में जो जन्मी थी वो
               नज़म पुरानी लिख देना

गीत जो हमने गाये थे
              कसमें जो हमने खायी थीं
मैं उनमे जीने मरने लगी
              इसे बस नादानी लिख देना

No comments:

ज़िन्दगी का दायरा कैसे फैलता चला जाता है एक सर्किल का लगातार बढ़ता हुआ जैसे सरकमफेरेंस हो ! और इंसान मानो उस इमेजिनरी लाइन के ऊपर खड़ा...